हम ज्ञान-किरण पृष्ठ के माध्यम से  रचनात्मक-लेखन को बढ़ावा देना चाहते हैं। विद्‌यार्थियों की सुविधा के लिए निबंध-लेखन, पत्र-लेखन, भाषण-लेखन, फ़िल्म-समीक्षा, पुस्तक-समीक्षा, साक्षात्कार-लेखन, संवाद-लेखन, ्डायरी-लेखन, ब्लॉग-लेखन, ईमेल-लेखन, फ़ीचर-लेखन आदि विषयों पर विस्तार से चर्चा तथा उनके विभिन्न प्रारूपों  के उदाहरण  प्रस्तुत किए जा रहे हैं। हमें आशा है कि इस प्रयास से रचनात्मक-लेखन के प्रति विद्‌यार्थियों में रोचकता और सक्रियता बढ़ेगी।

                                                                                                भाषण-लेखन
                                                                                          (Speech-Writing)


भाषण एक कला है जिसके माध्यम से हम किसी विषय पर अपने विचारों को श्रोताओं के सम्मुख अभिव्यक्त करते हैं। शब्दकोश में भाषण का अर्थ है धाराप्रवाह रूप में किया गया विवरण, वार्तालाप, कथन, कही गई बात, बोलना, बात कहना आदि।

भाषण में निम्नलिखित विशेषताएँ होनी चाहिए –
१. एक अच्छा भाषण उसके संदेश पर आधारित होता है। अत: भाषण लिखते समत उसका संदेश पूर्णत: स्पष्ट होना चाहिए।
२. भाषण में रोचकता होनी चाहिए जो श्रोताओं की रुचि के अनुरूप हो।
३. विषय के अनुरूप भाषण में तथ्य, जाकारी, सूचना का समावेश हो।
४. भाषण में विषय के अनुसार भाषा में जोश, उत्साह का भाव होना चाहिए।
५. विषय के अनुरूप मुहावरे, लोकोक्तियों का प्रयोग होना चाहिए।
६. भाषण में नाटकीयता होनी चाहिए ताकि श्रोताओं को बाँधे रखे।
७. भाषण में विवाद या अनावश्यक बातों के उल्लेख से बचना चाहिए।
८. भाषण में विषय की पूर्णता होनी चाहिए।
९. भाषण में बार-बार श्रोताओं को संबोधित करते रहना चाहिए।

विद्‌यार्थी भाषण लिखते समय  निम्नलिखित बातों का विशेष ध्यान रखें –
१. भाषाण की शुरुआत आदरणीय अध्यक्ष, प्रधानाचार्य, शिक्षख-वृंद तथा प्रिय साथियो, सहपाठियो के साथ करें। संबोधन करते समय यदि बहुवचन का प्रयोग किया गया है तो उसमें अनुस्वार का प्रयोग नहीं करें। जैसे – प्यारे भाइयो, बहनो, मित्रो आदि।
२. तत्पश्चात विषय की प्रस्तावना देनी चाहिए ताकि यह स्पष्ट हो जाए कि आप किस विषय पर सभा को संबोधित करेंगे।
३. विषय को उपविषयों में बाँटकर उन्हें लिखना चाहिए।
४. महत्वपूर्ण कथन या दूसरों के शब्दों के साथ शुरुआत करने से आपकी विश्वसनीयता स्थापित होती है। जैसे – “बच्चे देश का भविष्य होते हैं।“
५. हमेशा "अपना" शब्द का प्रयोग करें-- अपना दल, अपना शहर/ राज्य/ देश, अपना स्कूल या विद्यालय, अपनी कक्षा के साल, अपना काम, लोग, और उत्पाद/उम्मीदवार आदि I इससे दर्शक अधिक अपनापन महसूस करेंगे।
६. भाषण में रोचकता बनाने के लिए विषय से संबंधित कविता, घटना, शेर, चुटकला आदि का प्रयोग करें।
७. भाषण की भाषा सहज, स्पष्ट तथा चित्रात्मक होनी चाहिए।
८. भाषण में लिखित तथ्य और विचार विषय से संबंधित होने चाहिए।
९. भाषण में गैर-जरूरी बातों का समावेश न करें।
१०. भाषण का अंत सटीक निष्कर्ष से करें।
११. भाषण के अंत में श्रोताओं का आभार प्रकट करें।